उत्तर प्रदेश सूचना आयोग

  हम कौन हैं
उत्तर प्रदेश राज्य सूचना आयोग का गठन कैसे किया जाता है?
  • उत्तर प्रदेश राज्य सूचना आयोग का गठन अधिनियम की धारा-15 के उपबन्धों के अनुसार राज्य सरकार द्वारा गजट अधिसूचना संख्या-856/43-2-2005-15-2-2003-टी-सी-4,दिनॉक 14 सितम्बर 2005 के माध्यम से किया गया है।
  • आयोग एक राज्य मुख्य सूचना आयुक्त (एस0सी0आई0सी0) और दस से अनधिक राज्य सूचना आयुक्तों (एस0आई0सी0एस0), जिनकी नियुक्ति महा महिम राज्यपाल द्वारा उत्तर प्रदेश के मुख्य मंत्री की अध्यक्षता में एक चयन समिति की सिफारिश पर की जाती है, से मिलकर बना है।
  • राज्य मुख्य सूचना आयुक्त और राज्य सूचना आयुक्तों के पद की शपथ उत्तर प्रदेश के राज्यपाल द्वारा अधिनियम की प्रथम अनुसूची में उक्त प्रयोजन के लिए दिए गए प्रारुप के अनुसार दिलाई जाती है।
  • आयोग का मुख्यालय लखनऊ में है।
राज्य मुख्य सूचना आयुक्त/राज्य सूचना आयुक्तों की पात्रता का मापदण्ड क्या है और उनकी नियुक्ति की प्रक्रिया क्या है?
  • राज्य मुख्य सूचना आयुक्त और राज्य सूचना आयुक्त विधि, विज्ञान और प्रौद्योगिकी, समाजसेवा, प्रबन्धन, पत्रकारिता, जनमाध्यम या प्रशासन और शासन में व्यापक ज्ञान और अनुभव वाले सामाजिक जीवन के अनिवार्यतः प्रख्यात व्यक्ति होगें {धारा 15(5)}
  • राज्य मुख्य सूचना आयुक्त या राज्य सूचना आयुक्त संसद का सदस्य या किसी राज्य या संघ राज्य क्षेत्र के विधान मण्डल का सदस्य नहीं होगा या कोई अन्य लाभ वाला पद धारण नहीं करेगा या किसी राजनीतिक दल से सम्बद्ध नहीं होगा या कोई कारबार नहीं करेगा या कोई वृत्ति नहीं करेगा। {धारा 15(6)}
  • राज्य मुख्य सूचना आयुक्त या राज्य सूचना आयुक्त के पद पर नियुक्ति राज्यपाल द्वारा एक ऐसी चयन समिति की सिफारिश पर की जाएगी जिसके गठन में मुख्यमंत्री जो समिति का अध्यक्ष होगा, विधान सभा में विपक्ष के नेता और मुख्य मंत्री द्वारा नामनिर्दिष्ट एक मंत्रिमण्डलीय मंत्री समाविष्ट होगें। {धारा 15(3)}
राज्य मुख्य सूचना आयुक्त के वेतन और भत्ते तथा उसकी सेवा की अन्य निबन्धन और शर्तंं क्या हैं?
  • राज्य मुख्य सूचना आयुक्त उस तारीख से जिसको वह अपना पद ग्रहण करता है, पॉच वर्ष की अवधि के लिए या 65 वर्ष की आयु प्राप्त करने तक, इनमें से जो पूर्वतर हो, पद धारित करता है। {धारा 16(1)}
  • राज्य मुख्य सूचना आयुक्त पुनर्नियुक्ति के लिए पात्र नहीं है {धारा 16(6)}
  • राज्य मुख्य सूचना आयुक्त को संदेय वेतन और भत्ते तथा उसकी सेवा की अन्य निबन्धन वऔर शर्तें तथा उसकी सेवा की अन्य निबन्धन और शर्तें वही हैं जो भारत के निर्वाचन आयुक्त की हैं और उनमें उसके लिए अलाभकारी रुप में परिवर्तन नहीं किया जायेगा।
राज्य सूचना आयुक्त के वेतन और भत्ते तथा उसकी सेवा की अन्य निबन्धन और शर्तें क्या हैं?
  • राज्य सूचना आयुक्त उस तारीख से जिसको वह अपना पद धारण करता है, पॉच वर्ष की अवधि के लिए या पैसठ वर्ष की आयु प्राप्त करने तक, इनमें से जो भी पूर्वतर हो, पद धारित करता है। {धारा 16(2)}
  • राज्य सूचना आयुक्त, अपना पद रिक्त करने पर, राज्य मुख्य सूचना आयुक्त के रुप में नियुक्ति के लिये पात्र होगा, परन्तु यदि उसकी नियुक्ति इस प्रकार की जाती है, तो वहॉ उसकी पदावधि राज्य सूचना आयुक्त और राज्य मुख्य सूचना आयुक्त के रुप में कुल मिलाकर पॉच वर्ष से अधिक नहीं होगी। {धारा 16(2)}
  • राज्य सूचना आयुक्त को संदेय वेतन और भत्ते तथा उसकी सेवा की अन्य निबन्धन और शर्तें वहीं हैं जो राज्य के मुख्य सचिव की हैं, और उनमें उसके लिए अलाभकारी रुप में परिवर्तन नहीं किया जायेगा। {धारा 16(2)}